Loading...

स्टाफ़ नर्स आत्महत्या मामले में मेडिकल कालेज प्रशासन किसी को नहीं बचा रहा : डॉक्टर अनिल चौहान

Edited By: रजनीश शर्मा
अपडेटेड: 2 weeks ago IST

डॉ. राधाकृष्णन राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल हमीरपुर की कार्यप्रणाली से नाखुश मृतक नर्स मोनिका के परिजन और लोग अभी भी गुस्सा हैं। आरोप हैं कि नर्स की मौत के 48 घंटे बीत जाने तथा अंतिम संस्कार के बाद भी अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने अपने स्तर पर कोई जांच शुरू नहीं की है। न ही अभी तक कोई जांच कमेटी का गठन किया। अस्पताल प्रशासन अभी तक लिखित शिकायत का इंतजार कर रहा है।विभिन्न संगठनों के अनुसार मेडिकल कॉलेज प्रबंधन और प्रधानाचार्य के उदासीन और गैरजिम्मेदाराना रवैये को देखकर लगता है कि कॉलेज में अन्य स्टाफ भी दबाव में कार्य कर रहा है।

 हालाँकि पुलिस ने इस सम्बंध में एफ़आईआर नम्बर 200/2019 आईपीसी की धारा 306 के तहत 4 अक्तूबर को दर्ज कर ली है । कुछ वार्ड सिस्टर व स्टाफ़ नर्स को पूछताछ के लिए शनिवार 5 अक्तूबर को पुलिस स्टेशन बुलाया लेकिन विभागीय स्तर पर कार्यवाही का मृतक मोनिका के अभी परिजन अभी इंतज़ार कर रहे हैं । इन सब आरोपों के बीच हमारे हमीरपुर ब्यूरो प्रमुख रजनीश शर्मा ने मेडिकल कालेज हमीरपुर के प्रिंसिपल डॉक्टर अनिल चौहान से सीधी बातचीत की । प्रस्तुत हैं कुछ अंश -
प्रश्न : घुटन , दबाव एवं अपमान के बीच मेडिकल कालेज अस्पताल की एक महिला कर्मचारी की आत्महत्या के मामले को आप कैसे लेते हो ?

डॉक्टर चौहान : यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है। महिला कर्मचारी को ऐसा कठोर निर्णय नहीं लेना चाहिए था । दुःख की घड़ी में हम परिवार के साथ हैं।

प्रश्न : अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज प्रशासन की कार्यप्रणाली से परिजन एवं लोग बहुत नाराज़ हैं । क्या कहना चाहेंगे ?

डॉक्टर चौहान : यह घटना बहुत ही दुखद है । अस्पताल एवं मेडिकल कालेज प्रशासन के पास सीनियर द्वारा जूनियर स्टाफ़ की प्रताड़ना की कभी लिखित या मौखिक शिकायत नहीं आई।

प्रश्न : मोनिका द्वारा लिखे सुसाईड नोट में जो आरोप लगे हैं, क्या आपने उन आरोपों पर विभागीय जाँच बैठा दी ? अगर नहीं तो क्यों नहीं?

डॉक्टर चौहान : मेडिकल कालेज प्रशासन इस बारे में पहले शिकायत का इंतज़ार करता रहा। अब घटना के बाद स्वयं संज्ञान लेते हुए प्रशासन विभागीय जाँच शुरू कर रहा है। इसके लिए कमेटी का गठन किया जा रहा है।

प्रश्न : भविष्य में प्रताड़ना से किसी स्टाफ़ कर्मचारी को आत्महत्या के लिए मजबूर न होना पड़े , मेडिकल कालेज प्रशासन इस बारे क्या निर्णय लिया है ।

डॉक्टर चौहान : आगामी कुछ दिनों में स्टाफ़ की मनोचिकित्सक से रेग्युलर काउंसिलिंग करवाई जाएगी ताकि इनकी मनोदशा को समझा जा सके और स्टाफ़ की मानसिक स्थिति स्टेबल रहे ।

प्रश्न : क्या स्टाफ़ काम के बोझ तले मानसिक रूप से परेशान हैं। क्या कम स्टाफ़ पर निगरानी करने वाले ज़्यादा हैं ?

डॉक्टर चौहान : नहीं , ऐसी कोई बात नहीं है । पिछले दो तीन माह से पैरामेडिकल स्टाफ़ में क़रीब 140 से 150 नर्सिज़ , 40 वार्ड ब्याय और क़रीब डेढ़ दर्जन अतिरिक्त फार्मासिस्ट नियुक्त हुए हैं । हर माह की सात तारीख़ को मीटिंग कर प्रिंसिपल की अध्यक्षता में स्टाफ़ की शिकायतें एवं समस्ययाएँ सुनी जाती हैं। इन बैठकों में कभी घुटन , प्रताड़ना या दबाव को लेकर कोई शिकायत नहीं आई।यह कहना भी ग़लत है कि पाँच लोगों के काम को देखने के लिए 15 लोग तैनात कर दिए गये हैं।

प्रश्न : इस मामले में पुलिस अपने स्तर पर पूछताछ कर रही है। क्या कहना चाहेंगे ?

डॉक्टर चौहान : मेडिकल कालेज प्रशासन पुलिस व क़ानून की पूरी मदद कर रहा है। जो भी रिकार्ड पुलिस जाँच में जरूरी है उपलब्ध करवाया जा रहा है। विभागीय एवं क़ानूनी तौर पर किसी को भी बचाने की कोशिश नहीं की जा रही है । पूछताछ में हमारा स्टाफ़ बराबर शामिल हो रहा है। क़ानून अपना काम निष्पक्षता से कर रहा है।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें