Loading...

कांगड़ा का एक ऐसा गांव जहां नहीं मनाई जाती दिवाली, जानिए कारण

Edited By: हिमाचल एक्सप्रेस डेस्क
अपडेटेड: a month ago IST

हिमाचल में आज दिवाली का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है, चारों तरफ उमंग व उत्साह है। इन सब से हटकर जिला कांगड़ा के पालमपुर में एक गांव ऐसा भी है, यहां पर दिवाली को लेकर कोई उत्साह दिखाई नहीं देता। ऐसा इस साल ही नहीं है, बल्कि हर साल होता है। यानी इस गांव के लोग दिवाली नहीं मनाते। इस गांव का नाम है अटियाला दाई। दिवाली न मनाने के पीछे गांववासियों का एक बुजुर्ग को दिया हुआ वचन है।

कहते हैं इस गांव में सदियों पहले भयानक बीमारी फैल गई थी। गांव के बुजुर्ग को सपना आया, उसके अनुसार बुजुर्ग ने गांव वालों को बीमारी से निजात दिलवाने के दिवाली के दिन एक गड्डा खुदवाया और उसमें समाधि ले ली थी। समाधि लेने से पहले उस बुजुर्गों ने गांव वालों से वचन लिया कि इसके बाद कोई यहां पर दिवाली मनाएगा तो पूरे गांव में बीमारी फैल जाएगी। कहते हैं गांव वालों को उस बीमारी से निजात तो मिल गई, लेकिन लोग आज तक उस वचन को निभा रहे हैं।

आज से करीब 15-20 वर्ष पूर्व तक तो गांव में कोई पर्व नहीं मनाता था, लेकिन अब छोटे बच्चे थोड़े- बहुत पटाखे चला लेते हैं। लेकिन, गांव में बूढ़े बुर्जुग अपने पूर्वज को दिए वचन को आज भी याद रखते हैं। गांव में दीपावली पर्व के आगमन को लेकर कोई साफ-सफाई और रंगोली वगैरह नहीं दिखाई देती है।

Subscribe Our Channel for latest News:

loading...

Loading...

Loading...

अन्य ख़बरें