Loading...

अस्पताल में इंजेक्शन लगाने के बाद स्कूली छात्रा की मौत, परिजनों का हंगामा

Edited By: हिमाचल एक्सप्रेस डेस्क
अपडेटेड: 4 weeks ago IST

बड़सर सिविल अस्पताल में इंजेक्शन लगाने के बाद स्कूली छात्रा की मौत का मामला गरमा गया है। छात्रा के परिजनों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया और प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। साथ ही मामले में उच्च स्तरीय जांच मांगी है। बताया जा रहा है कि सरकारी अस्पताल में इंजेक्शन लगाने के बाद छात्रा की तबीयत और बिगड़ गई, जिसे बाद में पीजीआई रेफर किया। जहां उसने दम तोड़ दिया। प्रशासन ने पूर्व में जिला मुख्यालय हमीरपुर में स्टाफ नर्स और निजी अस्पताल में स्कूल अध्यापिका की मौत के बाद हुए चक्का जाम और प्रदर्शन से सबक लेते हुए बड़सर अस्पताल के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया है ताकि कोई अनहोनी न हो।  वहीं, परिजनों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया और प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

क्या है मामला
मंगलवार रात को ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने छात्रा समेत आठ अन्य मरीजों को बुखार के इंजेक्शन दिए। इसके बाद अचानक सभी मरीजों की तबीयत बिगड़ गई। जानकारी के मुताबिक बाकी मरीज तो कुछ देर बाद ठीक हो गएए लेकिन वर्षा (7) पुत्री राजेश कुमार गांव बतारली जोडेअंब तहसील बड़सर जिला हमीरपुर की तबीयत में सुधार नहीं हुआ। करीब दो घंटे तक डॉक्टरों ने कोशिश की, लेकिन छात्रा की तबीयत लगातार बिगड़ती गई। डॉक्टरों ने छात्रा को ऊना रेफर किया और वहां से पीजीआई रेफर किया गया।

मामले की सूचना मिलने पर  बड़सर के विधायक विधायक इंद्र दत्त लखनपाल भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने भी मामले की जांच की मांग उठाई है।  बीएमओ बड़सर डॉ. एचआर कालिया ने कहा कि ड्रग इंस्पेक्टर को सूचना देने के बाद दवा का स्टॉक सील कर दिया गया है। मामले की छानबीन की जाएगी।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें