Loading...

राष्ट्रीय प्रोद्योगिकी संस्थान हमीरपुर को लेकर सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा ने फिर किया हमला

Edited By: रजनीश शर्मा
अपडेटेड: 4 weeks ago IST

राष्ट्रीय  प्रोद्योगिकी संस्थान हमीरपुर को लेकर सवाल उठाते रहे सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा  ने एक बार फिर संस्थान प्रबंधन को लेकर बड़ा हमला बोलते हुए कहा है कि डबल इंजन से काम करने का दावा करने वाली भाजपा की प्रदेश सरकार की केंद्र में कोई पूछ नहीं है। यही कारण है कि एनआईटी के बारे में प्रदेश सरकार की कोई सुनवाई नहीं हो रही है तो स्थानीय सांसद भी संस्थान की कार्यप्रणाली को लेकर फिक्रमंद नहीं है। जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने कहा कि संस्थान में सफाई कर्मचारियों से लेकर निजी कंपनियों के माध्यम से रखे गए कर्मचारियों का शोषण हो रहा है तथा कर्मचारी आत्महत्या करने जैसे कदम भी उठाने लगे हुए हैं लेकिन सरकार की ओर से कोई सकारात्मकता नहीं दिखाई गई है। उन्होंने कहा कि होना तो यह चाहिए था कि सरकार स्वयं मामले में हस्तक्षेप करती लेकिन जनता के द्वारा चुनी गई सरकार सरमाएदारों के आगे नतमस्तक लग रही है। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों के लोगों की भर्ती करने को तरजीह दी जा रही है लेकिन इस मुद्दे पर सवाल उठाने पर भी सरकार व स्थानीय सांसद कोई जबाव नहीं दे पा रहे है।

उन्होंने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को तो पहले ही केंद्र सरकार ने बिगाड़ दिया है और अब भाजपा की प्रदेश सरकार भी विकास का मलियामेट करने पर तुली हुई है। राजेंद्र राणा ने कहा कि यही वो पार्टी है जोकि जनता को अच्छे दिनों के सब्जबाग दिखाती थी लेकिन अब सब कुछ जुमलेबाजी बोलकर अपने वायदों से किनारा कर रही है। प्रदेश में माफिया राज इस कद्र हावी हो गया है कि जनता दुखी है लेकिन सरकार को इसकी कोई परवाह नहीं है। उन्होंने कहा कि हमीरपुर जिला की सरकार द्वारा घोर अनदेखी की जा रही है जिसका सबूत प्रदेश के मुखिया ने उस समय ही दे दिया था, जब हमीरपुर के पक्का भरो में एक विवाहिता की मौत को लेकर जनता धरना-प्रदर्शन कर रही थी लेकिन मुख्यमंत्री ने धर्मशाला जाने के लिए अपना सडक़ रूट ही बदल दिया। राजेंद्र राणा ने  कहा कि जो सरकार जनता की भावनाओं की कद्र ही नहीं पाती, उससे प्रदेश के विकास की बात करना व जनता और कर्मचारियों की समस्या समझना बेमानी ही लगता है। उन्होंने कहा कि एनआईटी में कर्मचारियों के हालातों व व्यथा को सरकार को समझना चाहिए, ताकि इतने बड़े संस्थान की गरिमा बनी रहे।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें