17 साल की नाबालिग से शादी करने पहुंचा 31 साल का दूल्हा, विभाग ने रुकवाया बाल विवाह

Edited By: हिमाचल एक्सप्रेस डेस्क
अपडेटेड: 6 months ago IST

कुल्लू के गड़सा घाटी में बाल विवाह का एक मामला सामने आया है जिसे विभाग ने समय रहते रुकवा दिया। महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यक्रम अधिकारी वीरेंद्र सिंह आर्य के नेतृत्व में गड़सा घाटी में शादी के फेरे लेने से पहले ही बाल विवाह को रुकवा दिया गया। जानकारी के अनुसार गड़सा घाटी के एक गांव में जिला कार्यक्रम अधिकारी को बाल विवाह होने की जानकारी मिली। वीरेंद्र आर्य ने त्वरित कार्रवाई करते हुए उस घर में दलबल के साथ दबिश दी। जांच करने पर पाया गया कि दुल्हन की उम्र 17 साल 6 माह है जबकि दूल्हे की उम्र लगभग 31 साल से ज्यादा थी। वीरेंद्र आर्य की टीम ने उनकी काउंसलिंग करते हुए जब उनके परिजनों को कानूनी दांवपेंच समझाए तो लड़का और लड़की के परिजनों ने बताया कि उनको इसकी जानकारी नहीं थी। नाबालिग के पिता ने कहा कि वह अपनी बेटी को आगे शिक्षा दिलाएंगे। जबकि दूल्हा पक्ष का कहना था कि उनको इसकी जानकारी ही नहीं थी कि दुल्हन नाबालिग है। दूल्हा मंडी जिला के पंडोह से बारात लेकर आया हुआ था। जिला कार्यक्रम अधिकारी के नेतृत्व में पहुंची टीम ने बाल विवाह को रुकवाते हुए दूल्हे को बैरंग लौटा दिया। इस मौके पर नरेश कौंडल, संरक्षण अधिकारी निर्मला देवी व विधि अधिकारी चंद पठानिया मौजूद रहे।

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें