Loading...

विधायक होशियार सिंह ने जाना तकनोली गांव वासियों का दर्द,73 साल से नहीं हैं सड़क

Edited By: विनायक ठाकुर, देहरा
अपडेटेड: a week ago IST

देहरा के समीप लगता एक ऐसा गावँ जहां आजादी के 73 साल के बाद भी सड़क नहीं पहुंच पाई है वहीं बताते चलें कि आजाद हिंद फौज के कर्नल मेहर दास की गृह पंचायत के तकनोली गांव को आजादी के 73 साल बाद भी सड़क नहीं पहुंच पाई है। ग्रामीण कई सालों से सरकारों व नेताओं के आगे अपनी मूलभूत सुविधाओं के लिए हाथ जोड़ते रहे, लेकिन हालात ज्यों ही रहे। वहीं आज ग्रामीणों का एक प्रतिनिधिमंडल देहरा के विधायक होशियार सिंह से अपनी समस्याओं को लेकर मिले। उसके बाद होशियार सिंह ने स्वयं दयाल पंचायत का दौरा कर ग्रामीणों की समस्या को सुना। ग्रामीणों की सड़क जो कि खड्ड बन गई है उसको सुधारने के लिए विधायक ने आश्वस्त किया कि 6 महीने के भीतर इस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा। पीडब्ल्यूडी के अधिकारी यहां निरीक्षण करने आएंगे और ये तय करेंगे कि यहां पाइप पड़ेगी या स्लैप। विधायक ने कहा कि आज़ाद हिंद फौज के सरदारे जंग कर्नल मेहर दास के गांव को ऊंचाई तक लेकर जाएंगे। स्थानीय ग्रामीणों में ओम प्रकाश शर्मा, मेहर दास शर्मा, राजेंद्र शर्मा, राजीव शर्मा, मुकेश शर्मा, संजीव शर्मा, अरविंद शर्मा, मनोरमा शर्मा, अर्चना शर्मा, आशा शर्मा, नीतू शर्मा, कांता देवी, आशा देवी व निर्मला देवी ने कहा कि हमनें प्रधानों व नेताओं को अपनी समस्या के बारे में अवगत कराया लेकिन कभी भी रास्ता नहीं बन पाया। उन्होंने कहा कि आज गांव वालों ने इक्कठे होकर विधायक होशियार सिंह से को बुलाया और उनको अपना रास्ता दिखाया। उन्होंने कहा कि यहां रास्ता नहीं है, कोई लिंक रास्ता भी नहीं है। यहां कोई गाड़ी भी नहीं आ सकती है। उन्होंने कहा कि पांच गांव के लिए यह रास्ता जाता है जिनमें तकनोली, हार, कस्वा, चूरूडू व बड़ा गांव के लिए रास्ता है। इनके लिए एक मात्र यही रास्ता है। उन्होंने कहा कि जब इस रास्ते पर बारिश का पानी आता है तो हम अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज पाते हैं। किसी बीमार व्यक्ति को चारपाई पर उठाकर लेकर जाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि 500 घरों के लिए एक मात्र रास्ता खड्ड बना हुआ है। उन्होंने कहा कि आजाद हिन्द फौज के कर्नल मेहर दास का पैतृक गांव में ग्रामीणों को इतनी समस्याएं हैं कि यहां रास्ता ही नहीं है। जो है वो खड्ड बना हुआ है और इस रास्ते से 5 गांवों के बच्चे, बुजुर्ग इसी रास्ते से जाते हैं। बरसात के दिनों में इतना पानी हो जाता है कि चलना भी मुश्किल हो जाता है। कोई बीमार हो जाये तो भी समस्या रहती है। उन्होंने कहा कि 25-30 सालों से सरकारों के पीछे रसता बनाने के लिए पड़े रहे, लेकिन आज दिन तक नहीं बन पाया। उन्होंने कहा कि यह रास्ता ग्राम पंचायत दयाल व ग्राम पंचायत बढ़हूं के अंतर्गत आता है। उन्होंने कहा कि दोनों पंचायतों के प्रधान पांच सालों में सिर्फ वोट मांगने आते हैं काम कोई नहीं करवाता है। उन्होंने कहा कि हमें विधायक होशियार सिंह पर विश्वास है। उन्होंने कहा की ग्रामीणों को लगता है कि विधायक जल्द ही इस समस्या का समाधान करेंगे।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें