Loading...

प्रदेश में 45 जांच केन्द्रों से प्रदान की जा रही है एचआईवी/एड्स जांच सुविधाः विपिन सिंह परमार

Edited By: कविता मिन्हास,पालमपुर
अपडेटेड: a month ago IST

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने आज शुक्रवार को सुलह विधानसभा क्षेत्र के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भवारना में राज्य स्तरीय अन्तर्राष्ट्रीय युवा दिवस अभियान का शुभारंभ किया। 31 अगस्त, 2019 तक आयोजित होने वाला यह अभियान स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग हिमाचल प्रदेश एवं हिमाचल प्रदेश राज्य एड्स नियन्त्रण समिति के सौजन्य से आयोजित किया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एचआईवी/एड्स विश्वव्यापी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या ही नहीं अपितु सामाजिक समस्या के रूप में सामने आया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2030 तक पूरे भारत से एड्स को जड़ से खत्म करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसके तहत प्रदेश सरकार 2020 तक 90 प्रतिशत एचआईवी से ग्रसित व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें उपचार सुविधा से जोड़ने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयासरत हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आज के युवाओं को अपने भविष्य को उज्ज्वल बनाने की कोशिश करनी चाहिए। भविष्य आशावान हो इसके लिए समय का सदुपयोग आवश्यक है। शिक्षा के बिना जीवन अधूरा होता है, इसलिए पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए मनोरंजन, मस्ती करें। उन्होंने कहा कि आज के युवाओं को रोजगार परक शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए इससे देश तथा समाज का कल्याण होगा। 

उन्होंने बच्चों से नशे और मोबाइल के अत्याधिक उपयोग से दूर रहने का आह्वान करते हुए कहा कि विवेक से विज्ञान का उपयोग ना हो तो विनाश का कारण बनता है उन्होंने युवा पीढ़ी कोे धैर्य, संतोष से काम करते हुए गुस्सा कम करना चाहिये और इससे बचने के लिये योग, प्राणायाम, ध्यान लगाना चाहिये। उन्होंने कहा कि जीवन मे चरित्रवान और संस्कारित बनें

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में एचआईवी की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग और हिमाचल प्रदेश राज्य एड्स नियंत्रण समिति विभिन्न सुविधाएं और गतिविधियां क्रियान्वित कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आम जनता तक एचआईवी/एड्स जांच सुविधा को पहुंचाने के लिए 45 एकीकृत परामर्श एवं जांच केन्द्र कार्य कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त प्रदेश में वर्तमान वित वर्ष में 10 नए एकीकृत परामर्श एवं जांच केन्द्र स्थापित करना प्रस्तावित है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी एचआईवी जांच सुविधा प्रदान की जा रही है। प्रदेश में 20 यौन रोग उपचार केन्द्र कार्य कर रहे हैं, जिसमें रंगीन किटों के माध्यम से यौन रोगियों का उपचार किया जा रहा है। 15 गैर सरकारी संस्थाओं के माध्यम से 10 जिलों में उच्च जोखिमपूर्ण समूह के लिए लक्षित हस्तक्षेप परियोजनाएं चलाई जा रही है। एड्स के साथ जी रहे व्यक्ति को एंटी रेट्रोवायरल दवाईयां एंटी रेट्रोवायरल केन्द्रों द्वारा दी जा रही हैं। प्रदेश में 15 ब्लड बैंकों व 3 रक्त पृथ्थीकरण इकाइयों के माध्यम से प्रदेशवासियों को सुरक्षित रक्त उपलब्ध करवाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ विभाग द्वारा एंटिट्रोवायरल उपचार कार्यक्रम, देखभाल सहयोग केन्द्र, यौन रोग नियन्त्रण कार्यक्रम, रक्त सुरक्षा कार्यक्रम, लक्षित हस्तक्षेप परियोजनाएं, सूचना, शिक्षा एवं संप्रेक्षण, लोकनाट्य कार्यक्रम अभियान चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए जागरूकता कार्यक्रम शुरू किए गये हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री ने एड्स जागरूकता रैली को हरी झंडी दिखा कर रवाना करने के उपरांत सुपर स्पेशलिटी स्वास्थ्य शिविर का शुभारंभ किया। शिविर में एचआईवी जांच, अपंगता प्रमाण पत्र शिविर, एचआईवी पर जागरूकता प्रदर्शनी लगाई गई। इसके अतिरिक्त हृदय रोग, स्त्री रोग, आंख-नाक-गला, हड्डी रोग, चर्मरोग, बालरोग, मेडिसन, मनोचिकित्सा व शल्यचिकित्सा सम्बन्धी रोगों की चिकित्सकों द्वारा जांच की गई।

इस अवसर पर रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया जिसमें 60 लोगों ने रक्तदान किया। उन्होंने रक्तदान को महादान बताते हुए कहा कि इस पुनीत कार्य से हम अनेक बहुमूल्य जिंदगियां बचा सकते हैं। जरूरी है कि लोग विशेषकर युवा रक्तदान के लिए बढ़-चढ़ कर आगे आएं। उन्होंने कहा कि शिविर में एकत्रित रक्त जरूरतमंद लोगों की जीवन रक्षा के काम आएगा।  इस अवसर पर स्वास्थ्य शिविर में 650 से अधिक लोगों के स्वास्थ्य की जांच की गई तथा  30 विशेष रूप से सक्षम व्यक्तियों को प्रमाण पत्र जारी किये गये।
 स्वास्थ्य मंत्री ने बीएमओ को निर्देश देते हुए कहा कि सहारा योजना के अन्तर्गत आने वाले पात्र लोगों की पहचान करें ताकि पात्र लोगों के जनधन खाते में 2000 रुपये प्रतिमाह राशि डाली जा सके।


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि नशे के खिलाफ सख्त कानून बनाया गया है। उन्होंने लोगों से भी इस कुरीति के खिलाफ खुलकर सामने आने की अपील की ताकि इसे जनआन्दोलन का रूप दिया जा सके।
 उन्होंने मुख्यमंत्री राहत कोष में 24 लाभार्थियों को 3 लाख 85 हजार रुपये के चेक वितरित किये। इसके साथ ही स्वास्यि मंत्री ने 6 दिव्यांग व्यक्तियों को व्हील चेयर वितरित कीं।इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने सिविल अस्पताल भवारना के नए ओपीडी ब्लॉक का शुभारंभ किया। उन्होंने भवारना में बन रहे मोक्षधाम का भी निरीक्षण किया तथा गुग्गा मंदिर में सलोह में पूजा अर्चना की। 

निदेशक स्वास्थ्य विभाग डॉ.अजय कुमार गुप्ता ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और शिविर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी। इससे पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की तथा पर्यावरण संरक्षण के लिए स्कूल के प्रांगण में आंवले का पौधा रोपित किया। इस अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के कलाकारों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री की धर्मपत्नि शर्मिला परमार, जयसिंहपुर के विधायक रविन्द्र धीमान, बैजनाथ के विधायक मुल्ख राज प्रेमी, विधायक नगरोटा अरूण मेहरा, भाजपा जिला अध्यक्ष विनय शर्मा, भाजपा अध्यक्ष सुलाह देसराज शर्मा, तनु भारती, उपनिदेशक स्वास्थ्य डॉ. गोपाल बेरी, सीएमओ डॉ.गुरदर्शन गुप्ता, एसडीएम पंकज शर्मा, डीएसपी अमित शर्मा, प्रधानाचार्य राज कुमार कायस्था सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें