Loading...

जम्मू-कश्मीर की 35ए की तर्ज पर हिमाचल में खत्म हो धारा-118 : साहनी

Edited By: हिमाचल एक्सप्रेस डेस्क
अपडेटेड: 2 weeks ago IST

जम्मू-कश्मीर में 35ए खत्म करने के बाद अब हिमाचल में धारा-118 को खत्म करने की मांग प्रदेश के गैर-कृषकों ने की है। गैर-कृषक एकता मंच का कहना है कि वर्षों से वे हिमाचल में रह रहे हैं लेकिन उन्हें यहा जमीन खरीदने का हक नहीं है जबकि कई लोग ऐसे हैं जो आजादी के बाद यहां  रह रहे हैं लेकिन उनके पास जमीन नहीं थी और कुछ पंजाब के हिमाचल से अलग होने के बाद हिमाचल में आए। उन्हें यहां जमीन खरीदने का हक नहीं दिया गया जबकि वे वर्षों से हिमाचल में रह रहे हैं।

मंच के अध्यक्ष गिरीश साहनी ने प्रेस सम्मेलन में कहा कि इस मांग को लेकर प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मिला है। उन्होंने कहा कि हिमाचल बनने से पहले उनके  परिवार के लोगों को नौकरी और छोटे व्यवसाय के लिए प्रदेश में बुलाया गया था। इसके बाद हिमाचल में धारा 118 लागू कर दी गई। सभी को गैर कृषकों का दर्जा देकर उनके हकों को छीना गया है। धारा 118 में कई बार संशोधन किए गए और यह कांग्रेस शासनकाल में ज्यादा हुआ है। यह संशोधन बड़े पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए किए जाते रहे हैं। कहा कि उनके परिवार की कई पुश्तें सन 1800 से रह रही हैं, लेकिन उनके परिवारों को कृषक के दर्जे से वंचित रखकर उनके साथ अन्याय हुआ है।

Subscribe Our Channel for latest News:

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें