Loading...

विजीलेंस की बड़ी कार्रवाई: एक लाख की रिश्वत मामले में 2 व्यक्ति गिरफ्तार, हिरासत में HAS अधिकारी

Edited By: हिमाचल एक्सप्रेस डेस्क
अपडेटेड: 8 months ago IST

स्टेट विजिलेंस की टीम ने बुधवार को रिश्वतखोरी के मामले में हमीरपुर में तैनात एचएएसअधिकारी को हिरासत में लिया है। टीम ने दो दलालों को गिरफ्तार किया है, जिनके जरिए रिश्वत लेने का आरोप है। सभी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।
एचएएस अधिकारी एचएस राणा हमीरपुर टेक्निकल यूनिवर्सिटी में रजिस्ट्रार हैं। विजिलेंस की टीम ने चंडीगढ़ और पांवटा साहिब में एक साथ छापे मारे। बताया जा रहा है कि पांवटा साहिब में एक स्टोन क्रशर के निरीक्षण रिपोर्ट पर एसडीएम के हस्ताक्षर करवाने को लेकर एक लाख रूपए की रिश्वत मांगी गई थी। विजिलेंस की टीम ने पांवटा साहिब में दबिश देकर एक दलाल को एक लाख रुपए लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। दूसरे दलाल को भी पांवटा साहिब से ही अरेस्ट किया गया है।

विजीलेंस की टीम ने पांवटा साहिब में दबिश देकर दोनों दलालों को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। बताया जा रहा है कि पांवटा साहिब में जैसे ही एक दलाल को एक लाख रुपये की घूंस दी गई, तो इसकी सूचना चंडीगढ़ में मौजूद तकनीकी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार के पद पर तैनात एसएच राणा को दी गई। वहीं, शिकायतकर्ता फाइल सहित पहले से ही मौजूद था। अधिकारी को इस बात की मामूली सी भी भनक नहीं लगी कि विजीलेंस ने जाल बुन रखा है। चंडीगढ़ में अधिकारी ने जैसे ही फाइल पर साइन किए, तो उन्हें भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया गया।

मामला दिसंबर 2017 का है। उस समय एचएस राणा पांवटा साहिब में एसडीएम थे। एक स्टोन क्रशर की निरीक्षण रिपोर्ट पर कमेटी के तमाम सदस्यों के हस्ताक्षर हो गए। मगर एसडीएम के स्तर पर इसे पैंडिंग रखा गया। एसडीएम ने स्टोन क्रशर प्रबंधक को शुलभ अग्रवाल नाम के व्यक्ति से संपर्क करने को कहा। मुलाकात में एक लाख रुपए की डिमांड हुई। शुलभ अग्रवाल ने प्रबंधक से रितेश बंसल को एक लाख रुपए देने को कहा था। हमीरपुर विजिलेंस के डीएसपी बीडी भाटिया ने कहा कि दो दलालों को गिरफतार किया गया है। चूंकि संबंधित अधिकारी हमीरपुर में तैनात है, इसलिए हमीरपुर में ही मामला दर्ज किया गया है।

Subscribe Our Channel for latest News:

Loading...

loading...

Loading...

अन्य ख़बरें